Is It called Patriotism?

Hello guys, this is Ashwini Upadhyay here today I going to discuss with you " Is it called Patriotism ?" So please read it till the end.

 

आप सोच रहे होंगे आज मैं इस  topic  पर कैसे बात कर रही हूं जैसा कि कुछ दिनों से आप लोग news पर देख ही रहे  होंगे china और india के बीच border issue का tension चल रहा है

 

15 जून की रात को लद्धाख की गलवान घाटी में हुए india & china  के बीच हुए टकराव से आप भली भांति परिचित होंगे इसमे हमारे देश के 20 जवान सहित कमांडर रैंक के अधिकारी भी शहीद हो गए सेना तो अपना काम बखूबी कर रही है बॉर्डर पर, पर क्या हमारा कोई फ़र्ज़ नही बनता  अपने देश के लिए

Patriotism ! Kya hai ye Patriotism ?

Bharat Mata की jai बोलना और theator में movie start होने से पहले national anthem पर stand होना ! Is it called Patriotism ?

 

Current news जानने के बाद तो कुछ दिनों तक सभी के अंदर patriotic भाव जागृत रहता है जैसा कि आप सभी देख रहे हो इस time कुछ लोग china के सामानों का boycott कर रहे है उन  सामानों को तोड़ रहे है  और future में उनके सामानों को use ना करने का  सपथ भी ले रहे है but क्या ये long time तक जारी रख सकते है क्योकि हम इसी society के member है जहाstarting में तो  लोगो के पास किसी भी काम को करने के लिए बहुत जुजुन होता है but धीरे धीरे सारी जुजुन खत्म हो जाती है

हाल ही में मैने  पढ़ा एक तरफ लोग china के सामान का boycot कर रहे तो दूसरे तरफ chinese company की Redmi note 9 pro max के launch होते ही  only 30 second में out of stock  हो गया

Is it called Patriotism ?

लोगो के cell phone से chinese application का boycot  तो हो नही पा रहा ( Tiktok, Hello, Vigo, shareit ,Xender ) etc और लोग china को पूरी तरह से boycot करने की बात कर रहे है

दो नारे लगा लेने से और theator में national athems पर खड़े हो जाने से ही नही होते patrotism!

अगर जानना ही है तो उन जवानों को देखिए जो अपने देश के लिए अपनी पूरी जिंदगी कुर्बान कर देते है

मैं ये नही  कह रही हु की आप भी  border पर जाके लड़ाई करे लेकिन आप अपने wallet से तो जवाब दे सकते है ना

हमने देखा है हर साल diwali आने पर chinese सामानों की झड़ी लग जाती है  जिसमे बहुत सारे झालर,  दिए  मुर्तिया  और बहुत सारे सजावट के  सामान  आते है इन सब सामानों के use से हमारा घर तो सुंदर लगता है but हमारे देश को बहुत नुकसान होता है ये सारे पैसे देश से बाहर चले जाते है  

Boycot का ये mean  बिल्कुल भी नही  है कि आप अपने घर  मे use  वाले सारे chinese सामानों को तोड़  दे बल्कि अब से ये हम ये ध्यान रखे कि  chinese सामानों को ना खरीदे

 

राष्ट्रीय हित का गला घोंट कर, छेद न करना थाली में

मिट्टी वाले दिये जलाना अबकी बार दीवाली में

देश के धन को देश मे रखना नही बहाना नाली में

बने जो अपनी मिट्ठी से, वो दियें बिके बाजारों में

छुपे है वैज्ञानिकता अपनी सभी तीज त्योहारों में

चाइनीज झालर से आकर्षित कीट पतंगे होते है

जबकि दिए में जलकर बरसाती कीड़े मर जाते है

कार्तिक के अमावस  वाली रात न अबकी काली हो

दिते बनाने वालों की भी खुशियो की दीवाली हो

अपने देश का पैसा जाए अपने देश की झोली में

देश की सीमा रहे सुरक्षित चूक न हो रखवाली में

करो बहिस्कार चाइनीज सामान की और लाओ स्वदेश इस दीवाली में

अंत मे मैं बस यही कहना चाहूंगी  कि आप सभी लोग वही काम करे जो अपने राष्ट्र हित मे हो

Read This Articles Also :

1. What causes an Ear Infection in Adults: Causes, Symptoms, & More

2. What is the Meaning of Yoga?

3. The Importance of Sanitation and Hygiene

4. How to Prevent Animal bites

5. What are the Reasons for Fasting

If you like this article "Is it called Patriotism?" please like comments and share and join with for a daily updates.

Jai Hind!!